آئینہ کے رکن بنیں ؞؞؞؞؞؞؞ اپنی تخلیقات ہمیں ارسال کریں ؞؞؞؞؞s؞؞s؞؞ ٓآئینہ میں اشتہارات دینے کے لئے رابطہ کریں ؞؞؞؞؞؞؞؞؞ اس بلاگ میں شامل مشمولات کے حوالہ سے شائع کی جاسکتی ہیں۔

Tuesday, August 16, 2016

جنگلی شہزادہ

بچوں کی کہانیوں کے کتابی سلسلہ کی تیسری پیشکش جنگلی شہزادہ پڑھنے کے لئے نیچے ٹائٹل پر کلک کریں۔

Jangli Shahzada

Saturday, August 6, 2016

सब से लम्बी उम्र का कछवा


सब से  लम्बी  उम्र  का  कछवा 

उम्र का कछवा कोलकता के चिड़ियाघर में था। इस कछवे की गुज़श्ता दिनों 250 बरस की उम्र में मौत हो गई।बताया जाता है कि ये कछवा एक अंग्रेज़ फ़ौजी अफ़सरकलाएव लाईव का पालतू कछवा था और इसी के हमराह 18वीं सदी के वस्त में हिंदुस्तान आया था। कोलकता चिड़ियाघर के मुक़ामी हुक्काम का दावयाआ है कि ये कछवा दुनिया का सबसे लंबी उम्र का कछवा था लेकिन उनके पास अपने दावे के सबूत के तौर पर पेश करने के लिए कोई दस्तावेज़ी सबूत नहीं है।
चिड़ियाघर के क़दीम रिकार्ड के मुताबिक़ ईस्ट इंडिया कंपनी के बर्तानवी जनरल रोबर्ट कलाएव के पास इस कछवे ने कई साल गुज़ारे थे और वहीं से ये कछवा चिड़ियाघर लाया गया था।
अली पूर चिड़ियाघर के मुलाज़मीन को इस कछवे से बड़ी उंसीयत थी।चिड़ियाघर घूमने जानेवाले बच्चे भी सर मई रंग की मोटी खाल वाले इस कछवे को देखकर ख़ूब लुतफ़ उठाते। छोटे बच्चों के लिए इस कछवे के जिस्म में इस का सर तलाश करना बेहतरीन मशग़लाहोता था।बताया जाता है कि इस कछवे की मौत उस का लीवर ख़राब होजाने की वजह से हुई।
रेकॉर्डों के मुताबिक़ ये कछवा1875में अली पूर चिड़ियाघर लाया गया। इस से क़बल ये बैरकपूर एरिया में था।चिड़ियाघर में ऐसी तस्वीरें मौजूद हैं जिसमें ब्रितानी मल्लाहों को ये कछवा जनरल कल्ला यू को पेश करते हुए दिखाया गया है।इन मल्लाहों ने इस कछवे को जज़ीरासिसली से पकड़ा था। इस कछवे का नाम अद्वितीय था बंगला में अद्वितीय कि मअनी हैं अछूता। जिसका कोई हम-सर ना हो। और अपनी उम्र के लिहाज़ से ये कछवा इकलौता ही था। किसी कछवे की औसत उम्र 240-250बरस होती है अदवीतीह अपनी उम्र की 250बहारें देख चुका था । ये अंग्रेज़ों के हिंदुस्तान आने और हिंदुस्तान से जाने दोनों को ऐनी शाहिद था। इतनी तवील उम्र के इस नायाब कछवे की मौत का जहां चिड़ियाघर के हुक्काम को दुख है वहीं कोलकता के चिड़ियाघर घूमने जाने वालों को भी चिड़ियाघर के सबसे क़दीम जानवर के ना रहने का अफ़सोस है।
जज़ीरा सिसली में पाए जानेवाले कुछोओं का औसत वज़न 120किलोग्राम होता है और ये लग भग  बरसों तक ज़िंदा रहते हैं


سب سے لمبی عمر کا کچھوا

بچوں ! کیا تم جانتے ہو جانوروں میں سب سے لمبی عمر کچھووں کی ہوتی ہے۔ ہندوستان میں اس وقت سب سے لمبی 
عمر کا کچھوا کولکتہ کے چڑیا گھر میں تھا۔ اس کچھوے کی گزشتہ دنوں 250 برس کی عمر میں موت ہوگئی۔بتایا جاتا ہے کہ یہ کچھوا ایک انگریز فوجی افسرکلایو لائیو کا پالتو کچھوا تھا اور اسی کے ہمراہ 18ویں صدی کے وسط میںہندستان آیا تھا۔ کولکتہ چڑیا گھر کے مقامی حکام کا دعویٰٰ ہے کہ یہ کچھوا دنیا کا سب سے لمبی عمر کا کچھوا تھا لیکن ان کے پا س اپنے دعوے کے ثبوت کے طور پر پیش کرنے کے لئے کوئی دستا ویزی ثبوت نہیں ہے۔
چڑیا گھر کے قدیم ریکارڈ کے مطابق ایسٹ انڈیا کمپنی کے بر طانوی جنرل روبرٹ کلایو کے پاس اس کچھوے نے کئی سال گزارے تھے اور وہیں سے یہ کچھوا چڑیا گھر لایا گیا تھا۔
علی پور چڑیا گھر کے ملازمین کو اس کچھوے سے بڑی انسیت تھی۔چڑیا گھر گھومنے جانے والے بچے بھی سر مئی رنگ کی موٹی کھال والے اس کچھوے کو دیکھ کر خوب لطف اٹھاتے۔ چھوٹے بچوں کے لئے اس کچھوے کے جسم میں اس کا سر تلاش کرنا بہترین مشغلہ ہوتا تھا۔بتایا جاتا ہے کہ اس کچھوے کی موت اس کا لیور خراب ہوجانے کی وجہ سے ہوئی۔
ریکارڈوں کے مطابق یہ کچھوا1875ءمیں علی پور چڑیا گھر لایا گیا۔ اس سے قبل یہ بیرک پور ایریا میں تھا۔چڑیا گھر میں ایسی تصویریں موجو د ہیں جس میں برطانی ملاحوں کو یہ کچھوا جنرل کلا یو کو پیش کرتے ہوئے دکھایا گیا ہے۔ان ملاحوں نے اس کچھوے کو جزیرہ سسلی سے پکڑا تھا۔ اس کچھوے کا نام ادوتیہ تھا بنگلہ میں ادوتیہ کہ معنی ہیں اچھوتا۔ جس کا کوئی ہمسر نہ ہو۔ اور اپنی عمر کے لحاظ سے یہ کچھوا اکلوتا ہی تھا۔ کسی کچھوے کی اوسط عمر 240-250برس ہوتی ہے ادویتیہ اپنی عمر کی 250بہاریں دیکھ چکا تھا ۔ یہ انگریزوں کے ہندستان آنے اور ہندستان سے جانے دونوں کو عینی شاہد تھا۔ اتنی طویل عمر کے اس نایاب کچھوے کی موت کا جہاں چڑیا گھر کے حکام کو دکھ ہے وہیں کولکتہ کے چڑیا گھر گھومنے جانے والوں کو بھی چڑیا گھر کے سب سے قدیم جانور کے نہ رہنے کا افسوس ہے۔

جزیرہ سسلی میں پائے جانے والے کچھووں کا اوسط وزن 120کیلو گرام ہوتا ہے اور یہ لگ بھگ 100 برسوں تک زندہ رہتے ہیں۔

अक़लमंद लड़का

अक़लमंद लड़का 
असलम जमशेदपुरी 

एक बादशाह का दरबारी था।वो बादशाह का सौदा सलफ़ लाने का काम किया करता था। बादशाह उसे बहुत मानता था। इस बात से दूसरे दरबारी क्रीम से हसद किया करते थे।
एक दिन सभी दरबारीयों ने मिलकर करीम के ख़िलाफ़ बादशाह को भड़काया।
हुज़ूर वो सौदा सलफ़ की क़ीमत ज़्यादा बताकर पैसे बचा लेता है।
हाँ हुज़ूर ।।।वो हमेशा आपको धोका देता है। बादशाह सबकी बातें ग़ौर से सुनने के बाद उनसे मुख़ातब हुआ।
अगर ऐसी बात है तो ठीक है हम इस पर कड़ी निगाह रखेंगे। बात आई गई हो गई।
एक दिन बादशाह को मालूम हुआ कि शहर में एक अँगूठीयों पर नाम लिखने वाला आया हुआ है। उसने एक दरबारी को भेज कर नाम लिखने की शरह दरयाफ़त की।दरबारी ने आकर बताया।
50पैसे फ़ी हर्फ़ हुज़ूर!
बादशाह ने कहा अच्छा जाओ क्रीम को भेज दो ।
थोड़ी देर बाद क्रीम बादशाह के हुज़ूर में हाज़िर हुआ।
आपने याद फ़रमाया बादशाह सलामत।।
हाँ क्रीम! हम अँगूठी पर हुस्न लिखवाना चाहते हैं । ये अँगूठी ले जाओ और इस पर लिखवा लाओ।
बादशाह ने क्रीम को अँगूठी और फ़ी हर्फ़ के हिसाब से तीन हर्फ़ के डेढ़ रुपय दिए।करीम बाज़ार चला गया।
कुछ देर बाद क्रीम अँगूठी पर हुस्न लिखवा कर ले आया।
लीजीए बादशाह सलामत।।।
बादशाह ने अँगूठी को ग़ौर से देखा। इस पर हुस्न लिखा हुआ था।वो क्रीम से मुख़ातब हुआ।
क्रीम।।।कुछ लोगोंने तुम्हारी शिकायत की थी कि तुम सौदा सलफ़ लाने में कुछ पैसे बचा लेते हो।।।।हमने आज तुम्हारा इमतिहान लेने की ख़ातिर।।लिखने की शरह का पता लगवाकर तुम्हें तीन हर्फ़ के डेढ़ रुपय दिए थे। अब तुम सच्च सच्च बताओ क्या तुमने आज भी पैसे बचाए हैं।।।?
हुज़ूर जब आप पूछ रहे हैं तो मैं बताए देता हूँ। मैंने आज 50पैसे बचाए हैं। मैं जब नाम लिखने वाले पास पहुंचा तो मैंने उसे अँगूठी दी और इस से इस पर ख़स लिखने को कहा। जब वो हिस बना चुका और ह् पर नुक़्ता रखने ही जा रहा था तो मैंने कहा,भाई साहिब! आप इस नुक़्ते को स के पेट में रख दीजीए।उसने ऐसा ही किया।मैंने उसे एक रुपया दिया,और आगया।।।
बादशाह ने जो बड़े ग़ौर से क्रीम की अक्लमंदी की कहानी सन रहा था, उठकर क्रीम को गले से लगा लिया और इस दिन से इस के ओहदे में तरक़्क़ी कर दी।

आदिल असीर देहलवी की नज़्में

आदिल असीर देहलवी की नज़्में 

अब्बू ने बतलाया
अब्बू ने बतलाया है

मेहनत से है इज़्ज़त

छोटे बड़ेस की चाहत
माँ और बाप की शफ़क़त
दुनिया-भर की दौलत
          अब्बू ने बतलाया है

चालाक कव्वा
डाल पे कव्वा बैठा है

दिन-भर शोर मचाएगा

हर-दम ताक लगाएगा
जो भी चोंच में आएगा
वो लेकर उड़ जाएगा
        डाल पे कव्वा बैठा है

अम्मी ने फ़रमाया

अम्मी ने फ़रमाया है

सुब्ह-सवेरे उट्ठो

नाम-ए-ख़ुदा का पढ़ लू
नाशतादान करके बचोगे
फिर मकतब को जाओ
       अम्मी ने फ़रमाया है

हंसकर बोलो

टीचर ने समझाया है

सबको अपना समझा तुम

दिल ना किसी का तोड़ो तुम
प्यार से हंसकर बोलो तुम
अच्छी बातें सीखो तुम
       टीचर ने समझाया है

حضرت کمالؒ حیات اور شاعری

نام کتاب : حضرت کمالؒ حیات اور شاعری
مصنف: ڈاکٹر شاہ حسن عثمانی
صفحات : 240
قیمت : 100 روپے
پبلشر: مجلس مصنفین اسلامی، بیت الرشاد، شانتی باغ، نیو کریم گنج، گیا
مبصر: ت ع
حضرت کمال ؒ (1720 تا 1803 ء) عہد میر کے ایک باکمال صوفی شاعر گزرے ہیں۔جن کے حالات زندگی اور شاعری پر آج تک تفصیلی و تنقیدی روشنی نہیں ڈالی جاسکی تھی اور ان کی شاعری و حیات ِ زندگی اب تک پردۂ خفا میں تھی۔مشہور محقق قااضی عبد الودود نے حضرت کمال ؒ کی حیات اور شاعری پر چند مضامین اور ان کے 100 منتخب اشعار مرتب کرکے''معاصر" پٹنہ میں شائع کیے تھے لیکن تفصیلی طور پر اس سلسلہ میں مزید تحقیق و جستجو کی اشد ضرورت تھی۔ڈاکٹر شاہ حسن عثمانی نے اس اہم موضوع پر تحقیقی کام کرکے اردو ادب میں بیش بہا اضافہ کیا ہے۔مصنف نے اپنی اس کتاب میں نہ صرف حضرت کمال ؒکی زندگی کے ہر گوشے پر تفصیل سے روشنی ڈالی ہےبلکہ ان کی شاعری کے معنوی و فنی محاسن کا بھی نہایت عمدہ تجزیہ کیا ہے۔ساتھ ہی حضرت کمالؒ کی شاعری کے گوہر آبدار کو ''کلام کمال'' کے تحت شامل کرکے زمانے کی دست برد سے محفوظ کردیا ہے۔
مصنف نے اس کتاب کو تین حصوں میں منقسم کیا ہے۔حیات کمال،کمال شاعری اور کلام کمال۔حصّہ اول میں حضرت کمالؒ کے حالات زندگی پر تفصیلی روشنی ڈالی گئی ہےاو ربہار کے صوفیائے کرام کے سلاسل اور صوفی خانوادوں کا ذکر کرتے ہوئےبہ حیثیت صوفی بزرگ حضرت کمال کے مقام کا ذکر کیا گیا ہے۔اس کے علاوہ عبدالعلی بحر العلوم لکھنوی ؒ کی شاگردی اور مشہور شاعر حزیں سے ملاقات جیسے تاریخی واقعات کا بھی تذکرہ شامل ہے۔
حصہ دوم میںحضرت کمال ؒ کی شاعری کے معنوی اور فنّی محاسن پر بحث کی گئی ہے اور مصنف نے ان شاعری ، تغزل اور غزل گوئی کے عناصر ترکیبی پر روشنی ڈالنے کے ساتھ ساتھ حضرت کمال کی مثنوی کا تفصیلی مطالعہ بھی کیا ہے۔اور یہ ثابت کیا  ہے کہ زبان کی خوبی و دلکشی اور انداز بیان کے بانکپن اور جوش خروش میں یہ کسی بھی طرحاقبال کی شعری خصوصیات و خوبیوں سے کم نہیں۔ اور حضرت کمالؒ18 ویں صدی میں20 ویں صدی کا دل و دماغ اور ذہن و فکر لے کر آئے تھے۔اپنے مخصوص  انداز تحریر میںمصنف نے حضرت کمال ؒکی عظمت اور شاعرانہ خوبیوں کا ذکر یوں کیا ہے
''حضرت کمال ؒ اپنےوقت کے بڑے باکمال بزرگ تھے۔ ان کی علمیت اور ادبیت اپنی جگہ مسلم تھی۔ علوم طاہری و باطنی کا گہرا مطالعہ کیا تھا۔دین و دنیا حقیقت و مجاز دونوں کے اسرار و رموز ان کے سامنے عیاں تھے۔یہی وجہ ہے کہ ان کی شاعری میں فنی لطافت کے ساتھ ساتھ بڑی معنویت ملتی ہے۔انہوں نے اچھی شاعری کی تخلیق ہی نہیں کی بلکہ اچھی شاعری کے امکانات کو روشن کیا۔ زبان و بیان میں ایسی سادگی، برجستگی اور شگفتگی ملتی ہے کہ بسا اوققات گمان ہوتا ہے جیسے بیسویں صدی کا کوئی شاعر ہو۔"
حصہ سوم میں حضرت کمال ؒ کی شاعری کے بیش بہا سرمایہ کو شامل کیا گیا ہے جو 100 سے زاید غزلوں  اور ایک طویل مثنوی پر مشتمل ہے۔
نمونہ کلام
آہ زنّار بن دیکھ مجھے            بہت حیرت سوں برہمن رویا
آہ ایماں سوں اس قدر گزرا              کفر پر میرے برہمن رویا
۔۔۔۔
کبھی سنے جو کوئی سینہ اس کا جل جاوے
اثر رکھے ہے فغاں میری آہ کے مانند
۔۔۔
جز مشت خاک کچھ نہ رہے گا نشان ِعمر
ملک عدم کو جاتا ہے یہ کاروانِ  عمر
۔۔۔
تو ننگ و نام کی کیا بات پوچھے ہے زاہد
کہیں کسی کا محبت میں ننگ و نام رہا
۔۔۔۔
کھڑا ہے قافلہ حیرت سے مثل سنگ نشاں
خدا کرے کہ ابھی میر کارواں آئے
۔۔۔
ڈاکٹر شاہ حسن عثمانی نے ایک گمنام صوفی شاعرکو پردہ خفا سے باہر لاکر یقیناً ایک قابل تحسین کارنامہ  انجام دیا ہے۔کتاب مجلد، سرور جاذب نظر اور گیٹ اپ نہایت عمدہ ہے۔ یہ کتاب مجلس مصنفین اسلامی کی ایک عمدہ اور مستحسن پیش کش ہے
(8رمضان المبارک1415ھ مطابق 10 جنوری 1995ء)

Friday, August 5, 2016

गीत भी गाया बहुत

ग़ज़ल
ताज उल इरफान  उसमानी


साज़-ए-हस्ती पर ख़ुशी के गीत भी गाया बहुत
 गर्दिश सात आसमां ने गम भी दिखलाया बहुत
ख़ूगर ज़िंदाँ स था लेकिन बरसर फ़स्ल-ए-बहार
दिल-फ़रेबी ने चमन की हमको बहकाया बहुत
तितलियाँ टूटें क़फ़स की क़ैद से पाली नजात
हाँ मगर याद क़फ़स ने दिल को तड़पाया बहुत
आँख जो उनसे मिली किया जाने क्या याद आगया
वो भी शरमाए बहुत और में भी शरमाया बहुत
जब हुजूम-ए-यास से अफ़्सुर्दा में होने लगा
याद-ए-जानाँ की तपिश ने दिल को गर्माया बहुत
मैकदा में भी सिक्कों ताहिर मुझे मिलता नहीं
हज़रत-ए-नासेह ने आके वां भी समझाया बहुत


غزل
تاج العرفان عثمانی


ساز ہستی پر خوشی کے گیت بھی گایا بہت
گردش سات آسماں نے غم بھی دکھلایا بہت
خوگر زنداں س تھا لیکن بر سر فصل بہار
دل فریبی نے چمن کی ہم کو بہکایا بہت
تتلیاں ٹوٹیں قفس کی قید سے پالی نجات
ہاں مگر یاد قفس نے دل کو تڑپایا بہت
آنکھ جو ان سے ملی کیا جانے کیا یاد آگیا
وہ بھی شرمائے بہت اور میں بھی شرمایا بہت
جب ہجوم یاس سے افسردہ میں ہونے لگا
یاد جاناں کی تپش نے دل کو گرمایا بہت
میکدہ میں بھی سکوں طاہرؔ مجھے ملتا نہیں
حضرت ناصح نے آکے واں بھی سمجھایا بہت

Wednesday, August 3, 2016

तेरी मस्ती के अफ़साने रहेंगे

मुबश्शिर इबन ताहिर उसमानी

कलीम आए भी अपनी ग़ज़ल सुना भी गए
अलाप भी गए रो भी गए रुला भी गए
सोज़-ओ-गुदाज़ में डूबी हुई एक आवाज़ जो ७० और ८० की दहाई में कुल हिंद मुशाविरों की जान हुआ करती थी आज ख़ामोश हो गई।पदम-श्री डाक्टर कलीम आजिज़ इस दुनिया में नहीं रहे।उन्होंने अपने मुनफ़रद अंदाज़ बयान से उर्दू शायरी में मीर के लहजे को आगे बढ़ाया।अपनी ज़िंदगी के सबसे बड़े उल-मनाक हादिसों को उन्होंने आफ़ाक़ी बना दिया। उनकी दर्द-भरी उल-मनाक यादें सिर्फ उन्ही तक महिदूद नहीं रहीं बल्कि उनके अशआर में वो तारीख़ का हिस्सा बन गईं। लाल क़िला के मुशायरा में पढ़े गए इस शेअर
दामन पे कोई छींट ना ख़ंजर पे कोई दाग़
तुम क़तल करो है कि करामात करो हो
को आज भी अह्ले इल्म याद करते हैं तो इस कमज़ोर जिस्म के नातवां इन्सान कयास शदीद शेअरी एहतिजाज को नहीं भुला पाते।आज भी ये शेअर ज़बान ज़द ख़ास-ओ-आम है।ख़ुद कलीम आजिज़ को इस बात का एहसास था कि ये तल्ख़ लहजा अगर ग़ज़ल के हसीन पीराए में क़ैद ना होता तो क़ाबिल गर्दनज़दनी क़रार दिया जाता।ये शेअर बल्कि पूरी ग़ज़ल मुख़ातब-ए-ग़ज़ल के मिज़ाज नाज़ुक पर कितना गिरां गुज़री ये तो मालूम नहीं लेकिन लाल क़िला के मुशाविरों में कलीम आजिज़ की शिरकत हमेशा के लिए ममनू क़रार पा गई।ख़ुशनुदी हासिल करने की ये रिवायत आज भी ज़िंदा है और अकैडमी के अर्बाब इक़तिदार बख़ूबी इस रिवायत को ना सिर्फ क़बूल कर रहे हैं बल्कि उसे आगे भी बढ़ा रहे हैं।
कलीम आजिज़ की शायरी हिन्दोस्तान के समाजी-ओ-सयासी हालात का भरपूर मंज़र-नामा पेश करती है।वो मुनाज़िर-ओ-वाक़ियात जो कलीम आजिज़ की शायरी का बुनियादी जुज़ बने वो आज भी मुख़्तलिफ़ शक्लों में दोहराए जा रहे हैं।खोने और लुट जाने का एहसास बहुतों को सत्ता रहा है।आज भी लोगों के दिल इसी तरह ज़ख़मों से चूर हैं और हर दर्द मंद इन्सान उस को अपनी ज़िंदगी का एक हिस्सा समझता है ।यही सबब है कि क़ारी डाक्टर आजिज़ का जब भी कोई शेअर पढ़ता है तो उसे वो अपने दिल से निकलती हुई आवाज़ महसूस करता है।अगर अपने अशआर की तरसील में कलीम आजिज़ की अना पसंदी का दख़ल ना होता तो शायद आज वो हिन्दोस्तान की गली कूचों के सबसे मक़बूल होते।
एक ज़माना था कि कलीम आजिज़ हिन्दुस्तानी मुशाविरों की जान हुआ करते थे।मेरे वालिद हज़रत हकीम शाह मुहम्मद ताहिर उसमानी फ़िर्दोसी ऒ जो ख़ुद भी एक शायर थे डाक्टर कलीम आजिज़ से ख़ुसूसी लगाओ था।इस ज़माने में वो जब भी धनबाद तशरीफ़ लाते तो हमारे घर ज़रूर आते।वालिद मुहतरम से घंटों अदबी-ओ-शेअरी गुफ़्तगु होती और बातों ही बातों में एक शेअरी नशिस्त होजाती।मुशाविरों में एक एक शेअर के लिए नाज़-ओ-अंदाज़ दिखाने वाले क्लेम आजिज़ इतनी मुहब्बत से शेअर पर शेअर सुनाते के उनकी फ़राख़दिली देखते ही बनती।शायद डाक्टर कलीम आजिज़ को एहसास था के इस महफ़िल में उनके सच्चे क़द्र-दाँ मौजूद हैं। यही सूरत-ए-हाल मेरे ख़ालू सय्यद नातिक़ कादरी और मामूं तारिक़ कादरी के साथ थी।नहीं मालूम उनके दिलों पर इस सानिहा के बाद क्या गुज़री होगी। कलीम आजिज़ उनके लिए मुशफ़िक़ बड़े भाई और हमदम से कम ना थे।उनके आबाई गांव बमनडीहा जो औरंगाबाद बिहार में वाक़्य है वो अक्सर तशरीफ़ लाते। तब्लीग़ की अहम मामूलात की अदायगी के बाद अदबी गुफ़्तगु मुशायरा में तबदील होजाती और फिर कलीम आजिज़ के अशआर और वाह वाह की यलग़ार का एक ना ख़त्म होने वाला सिलसिला शुरू होजाता और फिर मोअज़्ज़िन ही इस सिलसिला को लगाम लगा पाता।इस महफ़िल में कलीम आजिज़ नाअतें ग़ज़लें यहां तक के गीत भी सुनाते जो कभी बिहार की अदबी रिवायत का एक हिस्सा हुआ करती थीं।मेरे वतन झरिया में तो डाक्टर कलीम आजिज़ के आने का सिलसिला तो रफ़्ता-रफ़्ता कम हो गया बल्कि वालिद-ए-माजिद के इंतिक़ाल के बाद बिलकुल ही ख़त्म हो गया लेकिन बमनडीहा आने का सिलसिलाता हाल रहा।
ये कहना ग़लत ना होगा के ये शेअरी नशिस्तें इन मुशाविरों से बिलकुल अलग थीं जो बैन-उल-अक़वामी सतह पर अरब ममालिक में मुनाक़िद हुआ करती थीं । बाअज़ वजूहात की सबब उन्होंने हिन्दुस्तानी मुशाविरों में हिस्सा लेना बहुत पहले ही तर्क कर दिया था।आज अदबी दुनिया की अहम शख़्सियतें उर्दू मुशाविरों के तहज़ीबी ज़वाल पर उंगलियां उठा रही हैं लेकिन कलीम आजिज़ के हस्सास मिज़ाज ने बरसों क़बल इस माहौल से अपनी ज़ात को अलग कर लिया था।उन्हें डर था
कोई नाशिनास मिज़ाज-ए-ग़म कहीं हाथ उस को लगा ना दे
गरचे ये मौक़ा शिकवा-ओ-शिकायत का नहीं लेकिन जब हम इस पहलू पर ग़ौर करते हैं कि आख़िर वो कौन सी वजूहात थीं जिनकी बिना पर जब उनके अह्द के दूसरे शोअरा मुशाविरों में अपनी धूम मचा रहे थीं कलीम आजिज़ ने इन मुशाविरों से ख़ुद को अलग कर लिया।आख़िर क्यों दबिस्ताँ अज़ीमाबाद के इस अज़ीम शायर ने दबिस्ताँ दिल्ली और दबिस्ताँ लखनऊ से सजे स्टेज पर अपनी मौजूदगी को अपनी रुस्वाई का सबब जाना।ख़ुद्दारी का वो कौन सा जज़बा था जिसने मुशाविरों के स्टेज से दूरी को ही अपने इज़्ज़त नफ़स की तसकीन का ज़रीया जाना। गरचे उस ज़माने में मेरी उम्र बहुत कम थी लेकिन मुझे आज भी याद है शेरवानी और चूड़ीदार पाजामे में मलबूस ये बारीश और पुरनूर शख़्सियत किस तरह जाम-ओ-मीना में डूबे शाइरों के लिए बाइस तज़हीक होती थी ।उनके सामने ज़बान खोलने की तो किसी में हिम्मत ना थी लेकिन उनकी शायरी में शामिल इलाक़ाई लब-ओ-लहजा जो किसी हद तक ज़बानॱएॱ मीर के क़रीब होने के बावजूद उन के लिए बाइस मज़ाह होता था।आजिज़ का ये शेअर
रखना है कहीं पांव तो रखू हो कहीं पांव
चलना ज़रा आया है तो चलो हो

पौदों में रस्म-ए-शादी

ऐस.ऐम. नातिक़ कादरी

पौदों की दुनिया बहुत अजीब-ओ-ग़रीब है, साख़त के एतबार से उनके मुख़्तलिफ़ इक़साम,उनका उगना और नशओ नुमा पाना, उनके अंदर पाए जाने वाली मुख़्तलिफ़ आदात-ओ-अत्वार ,क्विव-ए-दिफ़ा, निकाली की आदत , राहत-ओ-तकलीफ़ से मुतास्सिर होना, कभी कभी अपने दिफ़ा के वास्ते जानवरों पर हमला-आवर होजाना ऐसी हैरत-अंगेज़ हक़ीक़तें हैं कि उनका मुताला बड़ा दिलचस्प और काबिल-ए-ग़ौर है।क़ुदरत ने आम तौर से हैवानात सेनबातात को कमज़ोर बनाया है मगर पौदों की अफ़्ज़ाइश-ए-नसल के लिए क़ुदरत काइंतिज़ाम बड़ा ही हैरानकुन और जाज़िब-ए-नज़र है। इन्सान और हैवान की बक़ा और आबादी में इज़ाफ़ा के लिए नर और माद्दा का मिलाप ज़रूरी अमल है, इन्सानी दुनिया में इस रस्म-ए-तिब्बी को रस्म-ए-शादी से ताबीर करते हैं । क़ुदरत ने पौदों की आबादी में इज़ाफ़ा और इस की नसलों को फ़रोग़ देने के लिए पौदों के अंदर भी बाहमी शादयात काबड़ा लतीफ़ और अनोखा इंतिज़ाम कर रखাा है, साईंस और इल्म-ए-नबातात की ज़बान में इस ख़ुसूसी अमल को पालीनीशन(pollination) कहते हैं और इस का इन्हिसार फूलों पर है
जिस तरह इन्सानी दुनिया में शादी की एक उम्र तिब्बी है इसी तरह पौदों में भयायक ख़ास मुद्दत के बाद फूल का आना उनके अज़दवाजी ज़िंदगी का आग़ाज़ है ,इन ही फूलों में नर और माद्दा फूल होते हैं ।बाअज़ पौदों में ये नर और माद्दा फूल एक साथ होते हैं यानी एक ही फूल के कटोरे में दोनों किस्म के जिन्स मौजूद होते हैं , ऐसे फूलों को मुकम्मल pletecom flower फूल कहते हैं । बाअज़ पौदों में नर और माद्दा फूल एक ही पौदे में होते हुए भीमुख़्तलिफ़ जगह पर उगे रहते हैं । मकई के पौदों में इस के बालाई हिस्सा पर जो धान की बाली की शक्ल का फूल होता है वो नर फूल कहलाता है और पौदों के तने में पतियों की गाँठ के क़रीब मकई के बाल की मोच निकलती है ये माद्दा फूल है।
(pollination) पालीनीशन के अमल को समझने के लिए नर और माद्दा फूल के मुख़्तलिफ़हिस्सों को समझना ज़रूरी है ।नर फूल का घुंडीदार बालाई हिस्सा anther )) अनथर कहलाता है ,ये एक पतली सी छड़ी (filament) फैला मिनट के ऊपर रहता है । नर फूल जब अपने सन्-ए-बलूग़त को पहुंच जाता है तो बालाई हिस्सा पर मौजूद अनथर (anther) में बारीक बुरादे क़वी हो जाते हैं जिनको इल्म-ए-हयात में पोलन ग्रीन्स (pollen grains) कहते हैं यही बारीक ज़र्रात अपने अंदर क्विव-ए-तौलीद रखते हैं और वक़्त-ए-मुक़र्ररा पर माद्दा फूल केबालाई हिस्सा असटग मा (stigma) पर क़ुदरत के मुख़्तलिफ़ कारिंदों की मदद से पहुंच जाते हैं और असटग मा (stigma) से निकलने वाली लसदार सी्याल की वजह से ये पालन ग्रीन्स इस पर चिपक जाते हैं और इस तरह जिन्सी अमल(fertilisation ) शुरू होता है और बीज और फल की बुनियाद पड़ जाती है और देखते देखते फूल मुरझाने लगते हैं और उन की जगह नन्हा सा फल नज़र आने लगता है और एक मुअय्यना मुद्दत के बाद वो भी बड़ा हो जाता हैनर को माद्दा फूल से क़रीब करने में क़ुदरत का बड़ा अनोखा ,हैरत-अंगेज़ और दिलचस्पइंतिज़ाम है जिसको देखकर क़ुदरत की सुनाई का गरवीदा होजाना पड़ता है, ना कोई शोर ना हंगामा, ना बाजा ना गाजा, ना सहरा ना मुकना ,ना बर ना बरात, जैसा कि इन्सानी समाज में आजकल हमने बिना रक्ख्াा है।हमारे यहां ज़न-ओ-शो को बाहम मिलाने का बड़ा पुरवक़ार तरीक़ा है लेकिन मज़हब से दूरी ने इस को एक बहुत बड़ा मसला बना दिया है।
मंसूब ही तै नहीं हो पाती जब तक कि लड़के और लड़की के वालदैन की नाक में दम ना आजाए। खासतौर पर लड़के वालों की तरफ़ से फ़रमाइशों और अनोखी शराइत ने लड़की वालों की जान आफ़त में डाल रक्ख्াी है। ये क्या सितम है कि कल तक जिन बच्चीयों की चहल पहल, उनकी तोतली ज़बान अच्छ्াी भली मालूम होती थी आज जवान हो कर घर को रौनक बख़श रही हैं तो वालदैन के दिन का चयन और रातों की नींद हराम होती महसूस हो रही है।शरीफ़ और नादार तबक़ा के सामने लड़कीयों की शादी बहुत बड़ा मसला बन कर रह गई है
आजकल इन्सानी शादी में माल-ओ-दौलत की हवस ,नुमाइश का शौक़ और ज़िंदगी के बामक़सद उसूलों से इन्हिराफ़ साफ़ साफ़ नज़र आता है, उनके मुक़ाबला में मासूम, ख़ामोशऔर गूँगे पौदों की रस्म-ए-शादी कहीं ज़्यादा साफ़ सुथरी और भली मालूम होने लगी है ।माफ़ कीजीएगा इन बातों का तज़किरा यहां बेजोड़ सा मालूम हो रहा होगा लेकिन इन्सानी दुनिया के एक फ़र्द होने के नाते क़लम कुछ ना कुछ तल्ख़ हक़ीक़तों की तरफ़ इशारा कर ही यता है। आईए पौदों की शादी में चलीं, पाली नेशन (pollination ( यानी नर और माद्दा फूलों कोयकजा करने के लिए क़ुदरत ने हुआ, पानी, पतिंगे , भंवरे , मुख़्तलिफ़ किस्म की मक्खियां और तितलीयों से कारिंदों का काम लिया है, ये सारे कारिंदे नर फूल के पालन ग्रीन्स(pollengrains ( को माद्दा फूल के एक मख़सूस उज़ूstigma ) ) तक पहुंचाने का काम करते हैं। फूलों पर मंडलाती तितलियाँ और गुनगुनाते भंवरे सिर्फ़ रौनक-ए-चमन की ख़ातिरनहीं बल्कि क़ुदरत ने ये इंतिज़ाम एक और बहुत ही आला मक़सद के लिए किया है।पतंगों और तितलीयों के पैर और परों पर चिपके पालन ग्रीन्सpollengrains))यानी नर फूल के बारीक ज़र्रात,माद्दा फूल के मख़सूस उज़ू (Stigma) पर जा पड़ते हैं जहां से जिन्सी अमल की शुरूआत होती है और अमल-ए-तौलीद की तकमील के बाद बीज और फल की बुनियाद पड़ती है , धान और गेहूँ की बालियां हूँ, आम के रसीले फल हूँ या अंगूर के सरमस्त ख़ोशे, हर तरह के फल, मेवा-जात सब के सब अपने पैदा होने में इसी पाली नेशन(pollination) के अमल के मरहून-ए-मिन्नत हैं ।फूलों से उठती ख़ुशबू जहां आपके दिल-ओ-दिमाग़ को तरोताज़गी पहुंचाती है वहीं मक्खीयों, पतंगों को अपनी जानिब खींचने में बहुत मुआविन है ।बाअज़ पतंगों की ख़ुराक फूलों का रस यानी यही नीकटर(nectar) है । ये पतिंगे अपना ख़ुराक लेने के लिए मुख़्तलिफ़ फूलों पर बैठते रहते हैं और क़ुदरत उनके रिज़्क़ की फ़राहमीके साथ साथ उनके ज़रीया पाली नेशन (Pollinationके अमल को बरुए कारलाती है।हुआ के लतीफ़ झोंकों के साथ नर फूल के पालन ग्रीन्स pollengrains) ) माद्दा फूल पर जा गिरते हैं । इस का मुशाहिदा मकई के पौदों के साथ बहुत आसानी से किया जा सकता है । आप एक मकई के पौदे को जुंबिश दें ,उस के बालाईहिस्सा पर अगे हुए धान से बारीक ज़र्रात झड़ने लगेंगे। यही पालन ग्रीन्स(pollengrains ( हैं जो मकई के मुलाइम रेशमी बालों के गछु्ुए ( मोच ) पर गिरने से मकई के बाल में दाने पड़ने शुरू हो जाते हैं। अगर कोई इस माद्दा फूल ,मकई के बाल के मुँह पर एक प्लास्टिक की थैली बांध दे और पालन ग्रीन्स(pollengrains ( को मकई के बाल पर ना गिरने दिया जाये तो सब मकई के पौदों में तो दाने मिलेंगे लेकिन इस मख़सूस पौदे में मकई के बाल के दाने बिलकुल नज़र नहीं आएं गे। पानी और हुआ तो खासतौर से नर फूल के पालन ग्रीन्स(pollengrains ( को माद्दा फूल तक पहुंचाते हैं , उस के इलावा कीड़े , पतिंगे , मक्खियां और भंवरे भी नर फूल से निकलने वाली बू के ऐसे मतवाले होते हैं कि इन फूलों पर उनका बैठना नागुज़ीर होता है और इस तरह उनके पैरों और परों पर की मदद से पालन ग्रीन्स(pollengrains ( माद्दा फूल पर पहुंच जाते हैं और अमल-ए-तौलीद का सिलसिला चलता रहता है ।आपने कभी धोके से शादी होते नहीं सुना होगा ।आईए आपको अल्जीरिया के एक पौदे Mirrororchid जिस का हयातयाती नाम (botanical name) अलिफ़-ओ-फर्स् असपीकोलम (ophrys speculam) है का बहुत कामयाब धोके का हाल सुनाता हूँ ।इस का फूल क़ुदरत की अता करदा बेमिसाल क्विव-ए-निकाली की वजह से ख़ुद को एक उड़ती हुईमख़सूस नसल की माद्दा मक्ख्াी की तरह बन कर पेश करता है जिसको देखकर उसीनसल का नर उस की तरफ़ माइल होता हैनबातात के माहिरों का कहना है कि इस फूल की पंखुड़ी के रंगों का इमतिज़ाज, उस का भूरा और चमकीला नीला रंग और इस की बनावट नबातात की दुनिया में बहुत मिसाली है और सच-मुच एक उड़ती हुई मक्ख्াी नज़र आता है , क़ुदरत का ये निज़ाम भी कितना अजीब-ओ-ग़रीब है कि माद्दा मक्ख्াी इन फूलों पर कभी नहीं बैठती बल्कि दूसरे इक़साम के फूलों से अपना रिज़्क़ हासिल करती है।इस माद्दा मक्ख्াी का नर चंद रोज़ पहले निकल आ ताहे और अपनी माद्दा की तलाश में सरगर्दां रहता है और धोके से इस (फूल) को अपनी माद्दासमझ कर इस पर बैठ जाता है,चूँकि उस की जिन्सी भूक का तदारुक नहीं हविपाता इस लिए ये एक फूल से दूसरे फूल पर उड़ता और बैठता रहता है लेकिन इस की इस ख़्वाहिश-ए-वस्ल और अहमक़ाना हरकत से नर फूल के पालन ग्रीन्स(pollengrains ( माद्दा फूल पर पहुंच जाते हैं और बीज और फल की बुनियाद पड़ जाती है । ये बात भी बहुत दिलचस्प औरग़ौर करने की है कि जब माद्दा मक्ख्াी आ निकलती है तो ये नर कभी इन फूलों(नक़ली माद्दा)की तरफ़ राग़िब नहीं होता ।

पौदों की अफ़्ज़ाइश-ए-नसल के लिए क़ुदरत का ये अमल-ए-मख़सूस , पालीनीशन (pollination ( या रस्म-ए-शादी कहलाता है । ये पौदों की अच्छ्াी से अच्छ्াी इक़सामपैदा करने में बहुत मुआविन है। इस काम से लगे माहिरीन(plant- breeders )ने मुख़्तलिफ़नरफोल के पालन ग्रीन्स (pollengrains ( को माद्दा फूल पर तजुर्बा कर के बहुत ही फ़ायदामंद नसलें ती्यार की हैं और इसी तकनीक की मदद से धान, गेहूँ,गुना और मुख़्तलिफ़ किस्म के फलों की ज़्यादा उपज देने वाली किस्में किसानों के पास पहुंच रही हैं। इन किस्मों की ईजादात ने ज़राअत की दुनिया में सबज़ इन्क़िलाब के सुनहरे ख़ाब की ताबीर को हक़ीक़त के बहुत क़रीब कर दिया है

Tuesday, August 2, 2016

خیابان ِ خیال



 طیب عثمانی ندویؒ کے مکتوبات کا مجموعہ ''خیابانِ خیال'' پی ڈی ایف شکل میں پڑھنے  کے لئے نیچے ٹائٹل پر کلک کریں۔


خوش خبری